नए साल में ये कंपनी 9 हजार लोगों को देगी रोजगार, इन क्षेत्रों में है मौका

ईवाई के भारत में ग्लोबल डिलेवरी सेण्टर सहित विभिन्न सदस्य कंपनियों में 50000 से अधिक लोग काम कर रहे हैं। मौजूदा समय में ईवाई इंडिया के सभी कर्मचारियों में 36 प्रतिशत कर्मचारी विज्ञान प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग और गणित पृष्टभूमि से हैं।

नई दिल्ली। ग्लोबल लेवल की की प्रोफेशनल कंपनी ईवाई सविर्सिज ने गुरुवार को कहा कि वह भारत में 2021 में 9,000 नये लोगों की हायरिंग करेगी। यह हायरिंग उसकी सदस्य कंपनियों में विभिन्न टेक्नोलॉजी रोल के लिए होगा।

नियुक्तियां विज्ञान, टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग और गणित की बैकग्राउंड से होगी

ईवाई ने एक बयान में कहा कि ये नियुक्तियां विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित की पृष्टभूमि से होगी। ये नियुक्तियां कृत्रिम मेधा, मशीन लर्निंग, साइबर सुरक्षा, विश्लेषण और दूसरी उभरती प्रौद्योगिकीयों के क्षेत्र में होगी।

ईवाई इंडिया के पार्टनर और व्यवहार सलाहकार प्रमुख रोहन सचदेव ने कहा, ‘आज सरकार और निजी व्यवसाय दोनों क्षेत्र के ग्राहक प्रौद्योगिकी केन्द्रित बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं। उनके इन प्रयासों में हम उन्हें समर्थन दे रहे हैं। विभिन्न क्षेत्रों में डिजिटल तकनीक को अपनाने का चलन तेजी से बढ़ रहा है, ऐसे में इन उभरती प्रौद्योगिकी भूमिकाओं में हम अपनी क्षमता को मजबूत कर रहे हैं और आने वाले साल में अपने नियुक्ति प्रयासों को उल्लेखनीय रूप से तेज करेंगे।’

ईवाई के भारत में ग्लोबल डिलेवरी सेण्टर सहित विभिन्न सदस्य कंपनियों में 50,000 से अधिक लोग काम कर रहे हैं। मौजूदा समय में ईवाई इंडिया के सभी कर्मचारियों में 36 प्रतिशत कर्मचारी विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित पृष्टभूमि से हैं।

EY ने कहा कि इसके सभी सेवा क्षेत्रों में एम्बेडेड डिजिटल परिवर्तन और नए बदलाव के लिए एक पूरा दृष्टिकोण है, जिसमें कई मालिकाना डिजिटल उपकरण और समाधान शामिल हैं, जैसे EY Asterisk (आपूर्ति श्रृंखला योजना समाधान) और EY सिम्फनी (एकीकृत शासन, जोखिम, नियंत्रण और अनुपालन) मंच)। ईवाई इंडिया के पार्टनर और टेक्नोलॉजी कंसल्टिंग लीडर महेश मखीजा ने कहा कि भारत में ईवाई नए डिजिटल मालिकाना उपकरणों और समाधानों की एक व्यापक रेंज विकसित कर रहा है, जिसे वह संगठनों और भौगोलिक क्षेत्रों में ले जाना चाह रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.